Follow by Email

Wednesday, November 25, 2015

एक ओंकार।  ईश्वर एक है. सिर्फ इतना ही समझ लेना काफी है.  कोई द्वेष नहीं रहेगा।

No comments: