Follow by Email

Wednesday, September 30, 2015


बच्चों की दुनिया के कैसे अनोखे रंग 
सपने रंगीन देख रह जाएँ सब दंग 
बच्चों से हो लें तो दिल न होगा तंग 
खुशियों को बाँटे चलो मिलकर हम संग.

  उषा छाबड़ा 

No comments: